बिहार लोकसभा चुनाव 2019 में इस बार कड़ा मुकाबला लग रहा था। एक ओर नीतीश खेमा तो दूसरी ओर महागठबंधन, इसलिए ये चुनावी लड़ाई बेहद रोमांचक लग रही थी लेकिन चुनाव परिणाम आते ही यह लड़ाई एकतरफा साबित हुई और एनडीए के आगे महागठबंधन कही नहीं टिक पाई। 

एनडीए ने बिहार के 40 में से 39 सीटों पर ऐतिहासिक जीत दर्ज की है और वही राजद समेत हम, वीआईपी, रालोसपा का खाता भी नहीं खुल पाया। एकमात्र सीट कांग्रेस ने किशनगंज में जीती है। 

चुनाव क्षेत्र                        विजयी प्रत्याशी                                         पार्टी 
आरा                               आर.के. सिंह                                      बीजेपी  (NDA)
औरंगाबाद                      सुशील कुमार सिंह                              बीजेपी  (NDA)
बेगूसराय                         गिरिराज सिंह                                    बीजेपी  (NDA)
बक्सर                             अश्विनी कुमार चौबे                             बीजेपी  (NDA)
दरभंगा                           गोपाल जी ठाकुर                                बीजेपी  (NDA)
हाजीपुर                          पशु पति कुमार पारस                         एलजेपी  (NDA)
जमुई                              चिराग पासवान                                  एलजेपी  (NDA)
खगरिया                          चौधरी महबूब अली कैसर                  एलजेपी  (NDA)
किशनगंज                      डॉ मोहम्मद जावेद                             कांग्रेस  (UPA)
मधुबनी                          अशोक कुमार यादव                            बीजेपी (NDA)
महाराजगंज                    जनार्दन सिंह सिगरीवाल                        बीजेपी (NDA)
मुज़फ़्फ़रपुर                    अजय निषाद                                      बीजेपी (NDA)
नालंदा                             कौशलेंद्र कुमार                                जेडीयू (NDA)
पश्चिम चम्पारण                डॉ संजय जायसवाल                            बीजेपी (NDA)
पाटलिपुत्र                         राम कृपाल यादव                               बीजेपी (NDA)
पटना साहिब                    रवि शंकर प्रसाद                                बीजेपी (NDA)
पूर्णिया                              संतोष कुमार                                      जेडीयू (NDA)
पूर्वी चम्पारण                     राधा मोहन सिंह                              बीजेपी (NDA)
समस्तीपुर                          रामचंद्र पासवान                                 एलजेपी (NDA)
सारन                                 राजीव प्रताप रूडी                            बीजेपी (NDA)
सासाराम                            छेदी पासवान                                   बीजेपी (NDA)
शिवहर                              रमा देवी                                           बीजेपी (NDA)
उजियारपुर                        नित्यानंद राय                                   बीजेपी (NDA)
वैशाली                              वीना देवी (पत्नी दिनेश प्रसाद सिंह)           एलजेपी (NDA)
अररिया                             प्रदीप कुमार सिंह                                    बीजेपी (NDA)
बांका                                गिरधारी यादव                                          जेडीयू (NDA)
भागलपुर                           अजय कुमार मंडल                                जेडीयू (NDA)
गया                                    विजय कुमार                                     जेडीयू (NDA)
गोपालगंज                          डॉ आलोक कुमार सुमन                     जेडीयू (NDA)
जहानाबाद                        चंदेश्वर प्रसाद                                       जेडीयू (NDA)
झंझारपुर                            रामप्रीत मंडल                                       जेडीयू (NDA)
काराकाट                           महाबली सिंह                                         जेडीयू (NDA)
कटिहार                             दुलाल चंद्र गोस्वामी                                जेडीयू (NDA)
मधेपुरा                               दिनेश चंद्र यादव                                    जेडीयू (NDA)
मुंगेर                                  राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह            जेडीयू (NDA)
नवादा                               चंदन सिंह                                                एलजेपी (NDA)
सीतामढ़ी                          सुनील कुमार पिंटू                                     जेडीयू (NDA)
सीवान                               कविता सिंह                                             जेडीयू (NDA)
सुपौल                                दिलेश्वर कामैत                                         जेडीयू (NDA)
वाल्मीकि नगर                     बैद्यनाथ प्रसाद महतो                              जेडीयू (NDA)

बिहार राष्ट्रीय राजनीति पर सीधा असर डालता है। बिहार में लोकसभा की कुल 40 सीटें हैं और सीटों के मामले में यूपी, महाराष्ट्र के बाद बिहार देश में तीसरे नंबर पर आता है। बिहार में कुल 40 लोकसभा सीटें हैं जिनमें से 34 अनारक्षित और छह सीटें आरक्षित हैं. इन सीटों में औरंगाबाद, गया, नवादा, जमुई सीट, किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया, भागलपुर, बांका, झंझारपुर, सुपौल, अररिया, मधेपुरा, खगड़िया, दरभंगा, उजियारपुर, समस्तीपुर, बेगूसराय, मुंगेर, सीतामढ़ी, मधुबनी, मुजफ्फरपुर, सारन, हाजीपुर, वाल्मीकिनगर, पश्चिमी चंपारण, पूर्वी चंपारण, शिवहर, वैशाली, गोपालगंज, सिवान, महाराजगंज, नालंदा, पटना साहिब, पाटलिपुत्र, आरा, बक्सर, सासाराम, काराकट, जहानाबाद शामिल हैं. बिहार में राज्यसभा की 16 सीटें हैं. बिहार विधानसभा में सदस्यों की संख्या 243 और विधान परिषद की सदस्य संख्या 75 है. बिहार में कुल मतदाताओं की संख्या करीब सात करोड़ (69738208) है. इसमें 36958241 पुरुष, 32777668 महिला और 2299 थर्ड जेंडर मतदाता हैं. यहां की राजनीतिक पार्टियों में जनता दल यूनाइटेड (जदयू), भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी), लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के अलावा कांग्रेस, माकपा, भाकपा, भाकपा (माले) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) शामिल हैं. इसके अलावा कई क्षेत्रीय दल भी हैं. 

बिहार की जनसंख्या 103,804,637 है, जिसमें पुरुषों की संख्या 54,185,347 और महिलाओं की संख्या 49,619,290 है. जनसंख्या की दृष्टि से बिहार भारत में तीसरे स्थान पर है. पहले स्थान पर उत्तर प्रदेश है जबकि दूसरे स्थान पर महाराष्ट्र है. बिहार में हिंदू धर्म मानने वाले सबसे अधिक लगभग 82.77 फीसदी हैं. दूसरे स्थान पर इस्लाम धर्म मानने वाले लोग हैं जिनका प्रतिशत 17.04 है. बिहार की आबादी में ओबीसी 51 प्रतिशत और दलित व महादलित जनसंख्या लगभग 16 प्रतिशत है.

करीब 99200 वर्ग किलोमीटर में फैले देश के पूर्वी हिस्से के राज्य बिहार की राजधानी पटना है. बिहार के उत्तर में नेपाल, पूर्व में पश्चिम बंगाल, पश्चिम में उत्तर प्रदेश और दक्षिण में झारखंड स्थित है. बिहार का इतिहास बहुत प्राचीन है. यहां ईसा से करीब 2000 साल पहले की सभ्यता के प्रमाण मिले हैं. छपरा से 11 किलोमीटर दूर स्थित सारण जिले का चिरांद यहां का सबसे महत्वपूर्ण पुरातत्व स्थल है जो कि 2000 ईसा पूर्व का है.

बिहार नाम का प्रादुर्भाव बौद्ध सन्यासियों के ठहरने के स्थान ‘विहार’ शब्द से हुआ. विहार के स्थान पर इसका अपभ्रंश ‘बिहार’ प्रचलित हो गया. यह क्षेत्र गंगा नदी तथा उसकी सहायक नदियों के उपजाऊ मैदानों में बसा है. प्राचीन काल के विशाल साम्राज्यों के गढ़ रहे इस प्रदेश से सन 1936 में ओडिशा और 15 नवंबर 2000 में झारखंड अलग हो गया.

सन 1905 में बंगाल का विभाजन होने पर बिहार राज्य अस्तित्व में आया था. बाद में 1936 में ओडिशा इससे अलग कर दिया गया. स्वतंत्रता संग्राम के दौरान बिहार के चंपारण के विद्रोह को, अंग्रेजों के खिलाफ बगावत फैलाने में महत्वपूर्ण घटनाओं में से एक गिना जाता है. भारत छोड़ो आंदोलन में भी बिहार की गहन भूमिका रही.

बिहार में हिंदी, अंगिका, भोजपुरी, मगही, उर्दू और मैथिली प्रमुख भाषाएं हैं. यहां की संस्कृति मगध, अंग, मिथिला तथा वज्जी संस्कृतियों का मिश्रण है. नगरों तथा गांवों की संस्कृति में अधिक फर्क नहीं है. बिहार में प्रशासनिक व्यवस्था के तहत 9 प्रमंडल तथा 38 मंडल (जिला) हैं. बिहार में नगर निगमों की संख्या 12, नगर परिषदों की संख्या 49 और नगर पंचायतों की संख्या 80 है.

Cresta WhatsApp Chat
Send via WhatsApp
error: Content is protected !!