स्वस्थ दाँतों के लिए अपनाएं ये आसान टिप्स – डॉ. शबनम अखौरी

डॉ. शबनम अखौरी पटना की एक युवा दन्त चिकित्सक है जो अभी वर्तमान में ड्रीम स्माइल डेंटल क्लिनिक, फुलवारी शरीफ, पटना में कार्यरत है। डॉ. शबनम का स्वस्थ्य दाँतों के प्रति लोगों को जागरूक करते हुए जानकारी देती है की हम में से ज्यादातर लोगों को अपने दाँतों की याद उस वक्त आती है जब वो बुरी तरह खराब हो जाते है या फिर उनमें दर्द होना शुरू हो जाता है. पर शुरुआत से ही दाँतों की देखभाल की जाए तो ऐसी परेशानियों से बचा जा सकता है । डॉ. शबनम के अनुसार जब दांतों के रंग में बदलाव, मसूड़ों में पस या फिर सूजन आना, मसूड़ों से खून आना, दांतों में दर्द होना या कैविटी की समस्या आने लगे तो आप को समझ लेना चाहिए की आप के दांत समस्या में है और आपको अपनी दांतो का विशेष ख्याल रखने की जरुरत है  ।

डॉ. शबनम अखौरी के स्वस्थ दाँतों के लिए ये उपाय बेहद आसान हैं और कारगर भी । इन टिप्स को अपनाकर आप डेंटिस्ट के पास जाने से तो बचते ही हैं साथ ही आपके चेहरे की खूबसूरत मुस्कान भी बनी रहेंगी ।

1. खूब पानी पिएं
ये एक नेचुरल माउथवाॅश है जो मुंह को समय-समय पर साफ करता रहता हैं । इससे दांतों पर चाय-काफी या दूसरी खाने-पीने की चीजों के दाग नहीं जमते । पानी आपके स्वस्थ के लिए बहुत जरुरी है। हर खाने के बाद पानी पीना चाहिए, ऐसा करने से दांतों के बीच फंसे चिपचिपे और एसिडिक खाने-पीने के दौरान साफ किए जा सकते हैं। दांतों की देखभाल के लिए सबसे जरूरी है के स्मोकिंग से दूर रहें और न ही तंबाकू या गुटखा चबाएं। 

2. खाने में फलों की पर्याप्त मात्रा 
फलों में कई तरह के एंजाइम और दूसरे जरूरी तत्व होते हैं जो दांतों को नेचुरल तरीके से साफ कर देते हैं । खासतौर पर ऐसे फल जिनमें विटामिन सी की मात्रा हो । विटामिन सी से भरपूर फलों का सेवन करें, इनमें शामिल है संतरा और बेरीज जैसे फल जो दांतों को संक्रमण से बचाते हैं । फाइबर से भरपूर फल सेब रोज खाएं। इससे मुंह में लार बनेगा और बैक्टेरिया उत्पन्न नहीं होंगे। एस्कोर्बिक एसिड युक्त फ्रूट स्ट्रॉबेरी खाएं जो दांतों की चमक को बढ़ाती है। रोज दूध पिएं, दूध में मौजूद कैल्शियम दांतों को मजबूत बनाता है। अखरोट खाएं। अखरोट में मौजूद ओमेगा 3 फैटी एसिड मसूड़ों को स्वस्थ बनाने के साथ-साथ बीमारियों से बचाता है।

3. शुगर-फ्री च्युइंगम का इस्तेमाल
आप चाहें तो शुगर-फ्री च्युइंगम का इस्तेमाल भी कर सकते हैं । इससे स्लाइवा ज्यादा मात्रा में बनता है जो प्लाक एसिड को साफ करने का काम करता है ।

4. स्ट्रॉ का इस्तेमाल
हो सके तो कोई भी पेय पदार्थ स्ट्रॉ की मदद से पिएं । इससे उस तरल का आपके दांतों पर कम असर होगा ।

5. ब्रश का इस्तेमाल
ब्रश करने के लिए मुलायम ब्रश का ही इस्तेमाल करें । ब्रश करते वक्त भी इस बात का ध्यान रखें कि दांत रगड़ें नहीं बस हल्के हाथों से उन्हें साफ करें । दांतों की देखभाल कर रहे हैं तो जरा सोचें कि आप किस तरह से ब्रश करते हैं। यह भी दांतों की सेहत के लिए बहुत जरुरी है। दरअसल गलत तरीके से ब्रश करना ब्रश न करने के बराबर है। अच्छी तरह समय निकाल कर, ब्रश नरमी से मुंह में सर्कुलर मोशन में करें, ऐसा करने से आपके दांतों पर जमी गंदगी साफ हो जाएगी। लगभग 2 से 3 मिनट तक ब्रश करने के बाद अच्छी तरह कुल्ली कर लें। आपको चाहिए कि हर 2 से 3 महीने के बीच अपना टूथब्रश बदल कर नया खरीदें। दांतो की सफाई के लिए सही ब्रश का चुनाव बहुत जरूरी है। बुजुर्गों के लिए नहीं यह सबके लिए जरूरी है कि सही ब्रश का चुनाव किया जाए। ब्रश बहुत सॉफ्ट होना चाहिए। इसके साथ ही ब्रश पकड़ने में भी आसानी होनी चाहिए। यदि ब्रश पकड़ने में दिक्कत होती हो तो, बच्चों के साइज का ब्रश खरीदें या आजकल इलेक्ट्रिक टूथ ब्रश भी उपलब्ध हैं। लेकिन अगर आप इलेक्ट्रिक ब्रश कर सकते हैं, तभी लें। ऐसा न कर पाने से आपको दांतों की समस्या हो सकती है।

6. जीभ की सफाई
जीभ की सफाई भी बहुत जरूरी है । अगर जीभ गंदी रह जाएगी तो उस पर बैक्टीरिया पनप सकते हैं जोकि मुंह की दुर्गंध का कारण भी होते है । ब्रश करने के साथ ही किसी अच्छे टंग-क्लीनर से जीभ साफ करना भी बहुत अहम है ।  दांतों की देखभाल गंदगी आपकी जीभ पर भी अपना कब्जा जमा सकती है, जिससे न सिर्फ मुंह से बदबू आने का खतरा होता है बल्कि दूसरी कई सेहत संबंधित समस्याएं पेश आ सकती हैं। जब-जब ब्रश करें, जीभ को भी खासतौर पर साफ़ करें।

7. शुगर की मात्रा
कोशिश कीजिए कि जितना कम हो सके उतना कम शुगर लें । साथ ही चिपचिपी खाद्य सामग्री के सेवन से भी परहेज करना बेहतर रहेगा । अगर आप ऐसा कुछ खाते भी हैं तो तुरंत कुल्ला कर लें । ऐसा नहीं है की सिर्फ मिठाइयों और चॉकलेट जैसी चीजें दांतों को नुकसान पहुंचाती है बल्कि अचार और तीखा खाना भी दांतों के लिए नुकसानदेह है।

9. ब्रश करने का सही तरीका 
ब्रश करने का सही तरीका पता होना भी बहुत जरूरी है । इसके लिए आप परामर्श ले सकते हैं । दांतों को ब्रश करने का यह मतलब नहीं है कि आप उनसे लड़ने लगें। दांतों की सफाई एक नाजुक प्रक्रिया है इसलिए आराम से ब्रश करें। ब्रश करने का सही तरीका इस्तेमाल किया जाना चाहिए। मसूड़ों के किनारों से शुरू करते हुए, ऊपर से नीचे की ओर, दांतों के बाहर और अंदर की ओर हल्के हाथों से ब्रश से रगड़ना चाहिए। ताकि दांत पूरी तरह साफ हो सकें। जिससे आपको दांतों की समस्या नहीं होगी

9. डॉक्टर से संपर्क
अगर आपको दांतों में कोई तकलीफ महसूस हो रही है तो डेंटिस्ट से तुरंत संपर्क करें । नियमित रूप से अपने मुंह की जांच करते रहें। अगर, मसूड़ों में किसी तरह की बदलाव या दर्द होता है, तो डेंटिस्ट से संपर्क करें। आपकी रोजमर्रा की कई आदतें आपकी सेहत के लिए हानिकारक साबित हो सकती हैं। दांतों से जुड़ी कई ऐसी बातें हैं जिनके कारण डेंटिस्ट से मिलना जरुरी हो जाता है। कम से कम साल भर में 2 से 3 बार डेंटिस्ट से मिल कर दांतों की सफाई और चेकअप करवाना चाहिए। डेंटिस्ट आपके दांतों से कैविटीज़ और हानिकारक तत्वों की सफाई कर सकता है इसके अलावा दांतों की दूसरी समस्याओं जैसे दांत के दर्द और मसूढ़ों से खून बहना अदि के लिए इलाज के तरीके सुझा सकता है। इन सभी बातों पर अमल करके आप अपने दांतों की देखभाल के साथ मसूढ़ों और मुंह की अंदरूनी सेहत को भी बेहतर बना सकते हैं।

डॉ शबनम अखौरी (दंत चिकित्सक),
ड्रीम स्माइल डेंटल क्लिनिक, फुलवारी शरीफ, पटना ।

Cresta WhatsApp Chat
Send via WhatsApp
error: Content is protected !!