योग : तन, मन, विचार, व्यवहार की अंतर्यात्रा – सुजाता प्रसाद

दुनिया का ऐसा कोई रोग नहीं जिसे समय रहते योग के माध्यम से दूर नहीं किया जा सकता। शर्त सिर्फ इतनी सी है कि मन में दृढ़ संकल्प की भावना होना चाहिए। मन में दृढ़ संकल्प की भावना भी योग के माध्यम से ही आती है। योग ।  भारतीय संस्कृति में हमेशा प्रक्रिया पर जोर दिया गया है। अगर हम प्रक्रिया को ठीक तरीके से करेंगे तो सकारात्मक परिणाम मिलेंगे। इसलिए हमें प्रक्रिया पर ध्यान देना चाहिए, लक्ष्य पर नहीं। क्योंकि अगर हम प्रक्रिया साध लेते हैं तो लक्ष्य पूरा हो ही जाता है। उदाहरण के लिए किसी भी खेल प्रतियोगिता में कई टीमें खेलने और जीतने की इच्छा से आती हैं। लेकिन जीतती कोई एक टीम ही है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि उस दिन अमुक खेल में खिलाड़ियों के खेलने की प्रक्रिया परफेक्ट होती है। कितना सही कहा गया है कि अगर हम प्रक्रिया को सही तरह से नहीं करेंगे तो जीतना सिर्फ एक इच्छा ही रहेगी। हमारे हाथ में बस हमारी कोशिश है। हमारी कोशिश प्रभावशाली होना चाहिए यानी कि वह केंद्रित होना चाहिए, जिसके लिए इसमें सही समय, सही स्थान ये सभी महत्व रखते हैं।

योग संस्कृति भी प्रक्रिया अपनाने की एक बुनियादी प्रक्रिया है। योग निरोग रहने की भूमि तैयार करता है। योग हमारे तन मन, हमारी भावनाओं हमारे विचार सबको सम्यक रूप से संतुलित करता है। हमारे शरीर के बाद योग मानसिक और भावनात्मक स्तरों पर काम करता है। दरअसल योग एक विज्ञान है, जिसे अपने दैनिक जीवन में अपनाने से हमें लाभ पहुंचता है।

योग शब्द संस्कृत के युज शब्द से बना है जिसका अर्थ होता है जुड़ना। यह जुड़ाव हमें आसन, प्राणायाम, मुद्रा, ध्यान आदि के निरंतर अभ्यास से प्राप्त होता है। योग भारतीय ज्ञान की पांच हजार वर्ष पुरानी शैली है। योग शब्द का मतलब एक हो जाना भी है। भगवान श्रीकृष्ण ने भी कहा है “योगस्थ कुरू कर्माणि ।” अर्थात योग में स्थिर हो जाओ फिर काम करो। 11 दिसम्बर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में प्रत्येक वर्ष 21 जून को विश्व योग दिवस के रूप में मान्यता प्राप्त हुई। 21 जून, अब दुनिया के लिये जाना-पहचाना दिन बन गया है, जिसे विश्व योग दिवस के रूप में पूरा विश्व मनाता है।

हालांकि योग में तुरंत इलाज, संभव नहीं है लेकिन रोगों से लड़ने के लिए एक सिद्ध विधि है, जिसे जानकर माना जा सकता है या मानकर जाना जा सकता है। इसलिए शारीरिक और मानसिक लाभ के लिए योग सबसे अधिक ज्ञात लाभों में से एक है। यहां तक कि जब आधुनिक विज्ञान किसी रोग के उपचार में असफल हो जाता है, तब योग अपने शक्तिशाली प्रभाव के कारण उस रोग के विरुद्ध अपना शत प्रतिशत देता है। हम अपनी जागरूकता से योग के इस स्वरुप का अनुभव प्राप्त कर सकते हैं। कुछ सरल नियमों का पालन करते हुए, हम योग अभ्यास का लाभ जरूर ले पाते हैं।

किसी योग्य गुरु के निर्देशन में योग अभ्यास शुरू करने का संकल्प हमारे जीवन में अच्छे बदलाव का परिचायक बन जाता है। हमें यह ज्ञात है कि सूर्योदय या सूर्यास्त के वक़्त योग का सही समय है। योग खाली पेट करना चाहिए और योग करने से एक-डेढ़ घंटे पहले और बाद कुछ खाना नहीं चाहिए। योग हर व्यक्ति को व्यक्तिगत रूप से लाभ पहुंचाता है। इसलिए हमें अपनी क्षमतानुसार योग को जरूर अपनाना चाहिए और अपनी शारीरिक, मानसिक और अध्यात्मिक सेहत में सुधार लाने की हमारी यह कोशिश होनी चाहिए और एक बार जब हम अपने अंदर इस मिठास को अनुभव कर लेते हैं तो उस स्तर पर उस मधुरता को अपना आधार रेखा मान लेना चाहिए। ऐसा इसलिए कि हम हमेशा सजग रह पाएं और यह सोचें कि इससे नीचे नहीं उतरना है, बल्कि उसके ऊपर अगले स्तर पर जाने की तैयारी हमेशा करते रहना है। यही संकल्प हमें योग के प्रभावशाली गुणों से मिलवाता है और हम मानसिक एवं शारीरिक स्वास्थ्य लाभ उठा पाते हैं। आइए तन, मन, विचार, व्यवहार की इस अंतर्यात्रा में हम भी शामिल हों और स्वस्थ व सुंदर जीवन जीने की इस कला को अपनाएं।

वैज्ञानिक भी मानने लगे हैं कि रोग की शुरुआत हमारे मन से होती है। मन में विचारों का झांझावत चलता रहता है। इन असंख्‍य विचारों में से ज्यादातर विचार निगेटिव ही होते हैं, क्योंकि निगेटिव विचारों को लाना नहीं पड़ता वह स्वत: ही आ जाते हैं। सकारात्मक विचार के लिए प्रयास करना होता है। सवाल यह उठता है कि कैसे विचारों से दूर होंगे रोग?

सोचने का योगा स्टाइल: मैं आज मन में नकारात्मक विचार ‘नहीं’ आने दूँगा।- यह निगेटिव सेन्टेंस् है। योग इस तरह के सेन्टेंस का विरोध करता है। योगा स्टाइल यह है- ‘मैं आज मन में 10 सकारात्मक विचार लाऊँगा।’ ‘नहीं’ शब्द को अपने मन-मस्तिष्क से रफादफा कर दो।

यम-नियम : यम के पाँच प्रकार हैं- (1)अहिंसा, (2)सत्य, (3)अस्तेय, (4)ब्रह्मचर्य और (5)अपरिग्रह। नियम के भी पाँच प्रकार होते हैं- (1) शौच (2) संतोष (3) तप (4) स्वाध्याय और (5) ईश्वर प्राणिधान। विचारों के मामले में यम के स्वाध्याय और नियम के अपरिग्रह का महत्व है। शरीर के मामले में शौच का महत्व है।

1.स्वाध्याय : स्वाध्याय का अर्थ है स्वयं का अध्ययन करना। अच्छे विचारों का अध्ययन करना और इस अध्ययन का अभ्यास करना। इससे विचारों की शुद्धि होती है। स्वाध्याय के लिए व्यर्थ की बहस और मानसिक द्वंद्व से बचना जरूरी है।

आप स्वयं के ज्ञान, कर्म और व्यवहार की समीक्षा करते हुए पढ़ें, वह सब कुछ जिससे आपके जीवन में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता हो साथ ही आपको इससे खुशी ‍भी मिलती हो, तो बेहतर किताबों को अपना मित्र बनाएँ। जीवन को नई दिशा देने की शुरुआत आप छोटे-छोटे संकल्प से कर सकते हैं। अच्छा सोचना और महसूस करना स्वाध्याय की पहली शर्त है।

2.अपरिग्रह : इसे अनासक्ति भी कहते हैं अर्थात किसी भी विचार, वस्तु और व्यक्ति के प्रति मोह न रखना ही अपरिग्रह है। कुछ लोगों में संग्रह करने की प्रवृत्ति होती है, जिससे मन में भी व्यर्थ की बातें या चीजें संग्रहित होने लगती हैं। इससे मन और शरीर में संकुचन पैदा होता है। इससे कृपणता या कंजूसी का जन्म भी होता है। आसक्ति से ही आदतों का जन्म भी होता है। संकल्पपूर्वक मन, वचन और कर्म से इस प्रवृत्ति को त्यागना ही अपरिग्रही होना है।

3.प्राणायाम : शरीर और मन के बीच की कड़ी है प्राणायाम। यह हमारे प्राणों की आयु को संचालित करता है। शुद्ध वायु ही शरीर की आयु है। प्राणायाम के महत्व को समझना और इसे नियमित करने से मन और शरीर से नकारात्मकता खत्म होती है साथ ही यह हमारे भीतर भरपूर ऑक्सिजन का निर्माण करता है जिसके माध्यम से शरीर को रोगों से लड़ने की क्षमता मिलती है। प्राण, अपान, समान आदि वायुओं से मन को रोकने और शरीर को साधने का अभ्यास करना अर्थात प्राणों को आयाम देना ही प्राणायाम है। ‘प्राणस्य आयाम: इत प्राणायाम’। ‘श्वासप्रश्वासयो गतिविच्छेद: प्राणायाम’-(यो.सू. 2/49) अर्थात प्राण की स्वाभाविक गति श्वास-प्रश्वास को रोकना प्राणायाम है। वेद और योग में आठ प्रकार की वायु का वर्णन मिलता है, जिनमें जीव विचरण करता है।

4.आसन : ‘आसनानि समस्तानियावन्तों जीवजन्तव:। चतुरशीत लक्षणिशिवेनाभिहितानी च।’- अर्थात संसार के समस्त जीव जन्तुओं के बराबर ही आसनों की संख्या बताई गई है। इस प्रकार 84000 आसनों में से मुख्य 84 आसन ही माने गए हैं।

आसनों का मुख्य उद्देश्य शरीर के मल का नाश करना है। शरीर से मल या दूषित विकारों के नष्ट हो जाने से शरीर व मन में स्थिरता का अविर्भाव होता है। शांति और स्वास्थ्य लाभ मिलता है। शरीर बृहत्तर ब्रह्मांड का सूक्ष्म रूप है। अत: शरीर के स्वस्थ रहने पर मन और आत्मा में संतोष मिलता है।
आसन एक वैज्ञानिक पद्धति है। ये हमारे शरीर को स्वच्छ, शुद्ध व सक्रिय रखकर मनुष्य को शारीरिक व मानसिक रूप से सदा स्वस्थ बनाए रखते हैं। केवल आसन ही एक ऐसा व्यायाम है जो हमारे अंदर के शरीर पर प्रभाव डाल सकता है।

5.प्रत्याहार : वासनाओं की ओर जो इंद्रियाँ (आँख, कान, नाक आदि) निरंतर गमन करती रहती हैं, उनकी इस गति को अपने अंदर ही लौटाकर भीतर की ओर लगाना या स्थिर रखने का प्रयास करना प्रत्याहार है। जिस प्रकार कछुआ अपने अंगों को समेट लेता है उसी प्रकार इंद्रियों को घातक वासनाओं से हटाकर अपनी आंतरिकता की ओर मोड़ देने का प्रयास करना ही प्रत्याहार है। यह खुद से मिलने का एक तरीका है।

क्या है वासनाएँ : काम, क्रोध, लोभ, मोह यह तो मोटे-मोटे नाम हैं, लेकिन व्यक्ति उन कई बाहरी बातों में रमा रहता है जो आज के आधुनिक समाज की उपज हैं, जैसे शराबखोरी, सिनेमाई दर्शन और चार्चाएँ, अत्यधिक शोरपूर्ण संगीत, अति भोजन जिसमें माँस भक्षण के प्रति आसक्ति, महत्वाकांक्षाओं की अंधी दौड़ और ऐसी अनेक बातें जिससे क‍ि पाँचों इंद्रियों पर अधिक भार पड़ता है और अंतत: वह समयपूर्व निढाल हो बीमारियों की चपेट में आ जाती है।

6.ध्यान का महत्व : रोग और शोक मानसिक दुख देते हैं। दोनों की ही उत्पत्ति मन, मस्तिष्क और शरीर के किसी हिस्से में होती है। ध्यान से सर्वप्रथम सभी तरह की अनावश्यक गतिविधि रूकने लगती है। श्वास-प्रश्वास में सुधार होने से किसी भी तरह के दुख के मामले में हम आवश्यकता से अधिक चिंता नहीं करते। ध्यान मन और ‍मस्तिष्क को भरपूर ऊर्जा और सकारात्मकता से भर देता है। शरीर भी स्थित होकर रोग से लड़ने की क्षमता प्राप्त करने लगता है।

अंतत: यदि आप ‍जीवन में हमेशा खुश और स्वस्थ रहना चाहते हैं तो शरीर और मन की बुरी आदतों को समझते हुए उन्हें योग द्वारा दूर करने का प्रयास करें। आपका छोटा-सा प्रयास ही आपके जीवन में बदलाव ले आएगा। विचारों पर गंभीरता पूर्वक विचार करें कि वे हमारे जीवन को कितना नुकसान पहुँचाते हैं और उनसे हम कितना फायदा उठा सकते हैं।

 

लेखिका
सुजाता प्रसाद
(निवास स्थान : नई दिल्ली , पैतृक निवास : पटना)

शिक्षा : स्नातकोत्तर हिंदी, स्नातक विज्ञान प्रतिष्ठा, शिक्षा विशारद विज्ञान, डी.सी. एच.(डिप्लोमा इन क्रिएटिव राइटिंग) एवं अन्य।
संप्रति : शिक्षिका (सनराइज एकेडमी), स्वतंत्र रचनाकार, मोटिवेशनल वक्ता।
रूचिः
रचना-सृजन, स्वतंत्र-लेखन एवं साहित्य पठन-पाठन में संलग्न, काव्य गोष्ठियों तथा सम्मेलनों में भागीदारी, सामाजिक-सांस्कृतिक गतिविधियों में समयानुसार सक्रिय।

उपलब्धिः
काव्य संग्रह “अनुभूतियों की काव्यांजलि”कौटिल्य पब्लिकेशन द्वारा प्रकाशित।
कई स्वतंत्र एवं साझा संकलन प्रकाशित। राष्ट्रीय समाचार पत्रों, विभिन्न प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में और लोकप्रिय वेबसाइट्स पर रचनाओं का प्रकाशन आदि।

Cresta WhatsApp Chat
Send via WhatsApp
error: Content is protected !!