बढ़ने ना दे मानसिक तनाव नहीं तो हो सकते हैं बीमार – डॉ. रितेश कुमार

जैसा कि आप जानते हैं कि लंबे दौर के बाद अब लॉक डाउन खत्म हो चुका है और और हम अनलॉक में कई सारी छूट के साथ घर से बाहर निकलने लगे हैं वैसे यह महामारी अभी पूरी रूप से खत्म नहीं हुई है अभी भी उतनी ही सावधानी बरतनी है जितने आपने पहले पड़ती है, लेकिन अपने आप को और अपने व्यवसाय को बचाते हुए हम और आप घर से बाहर हैं ऑफिस में हैं दुकानों पर हैं और अपने काम पर आ चुके हैं अब जब हम लगभग ढाई महीने बिना काम के थे और घर पर यूं ही बैठे थे तो इन दिनों में जो काम हमारा ठप था, अब उन ढाई महीनों के काम की भरपाई की जिम्मेदारी आपके ऊपर आ चुकी होगी। तो अब यह वो वक्त है जिस वक्त में अपने ऊपर मानसिक तनाव ना आने दे अन्यथा आप बीमार हो जाएंगे.
चाहे हो वर्क लोड हो या सेल्स टारगेट चाहे वह क्रेडिट भुगतान हो या फिर लायबिलिटीज। जी हां मैं आज अपने लेख के माध्यम से मानसिक तनाव से कैसे बचें , इसके बारे आपको बता रहा हूं।

1. व्यायाम करें :-

व्यायाम सबसे महत्वपूर्ण चीजों में से एक है जो आपको तनाव से निपटने में मदद करता है।जब आप नियमित रूप से व्यायाम करते हैं तो आपको इसका लाभ मिलता हैं। जो लोग नियमित रूप से व्यायाम करते हैं, वे उन लोगों की तुलना में चिंता का अनुभव कम करते हैं जो व्यायाम नहीं करते हैं।

2.परिवारऔर दोस्तो के साथ ज्यादा समय बिताए

दोस्तों और परिवार का सामाजिक समर्थन तनावपूर्ण समय से गुजरने में आपकी मदद कर सकता है।

3.गतिविधियों को लिखें और पत्रिकाएं पढ़े

तनाव को संभालने का एक तरीका है कि चीजों को लिख दिया जाए। ताकि उनके हिसाब से काम किया जाए और समय पर काम पूरा किया जाए।

4.शिथिलता से बचना सीखें

अपने तनाव को नियंत्रित करने का एक और तरीका है कि आप अपनी प्राथमिकताओं में सबसे ऊपर रहें और विरासत को रोकें।

5.अपने पसंद के संगीत सुनें

संगीत सुनने से शरीर पर बहु प्रभाव पड़ता है। धीमी गति से वाद्य संगीत, निम्न रक्तचाप और हृदय गति के साथ-साथ तनाव हार्मोन को स्थिर करने में मदद करता है।

6 च्युइंग गम चबाए

च्यूइंग गम मस्तिष्क की तरंगों को शिथिल लोगों के समान बनाता है। एक और यह है कि च्युइंग गम आपके मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह को बढ़ावा देता है।

7.सप्लीमेंट्स का इस्तेमाल करें:-

कुछ supplement तनाव और चिंता को कम कर सकते है ,पर इसका भी ध्यान रखे की इनके साइड इफेक्ट्स भी होते है इसलिए डॉक्टर से सलाह जरूर लें

8.ना कहना सीखें
सभी तनाव आपके नियंत्रण में नहीं हैं, लेकिन कुछ हैं। अपने जीवन के उन हिस्सों पर नियंत्रण रखें जिन्हें आप बदल सकते जो तनाव पैदा कर रहे हैं।

डॉ. रितेश कुमार, निर्देशक – रितेश कुमार फिजियो केयर, फ्रेजर रोड पटना 

Cresta WhatsApp Chat
Send via WhatsApp
error: Content is protected !!