रोज़ा (सौम) : इस्लाम के पाँच मूलस्थंबों में से एक और रमजान महीने का उपवास

रमजान का महीना कभी 29 दिन का तो कभी ३० दिन का होता है। इस महीने में उपवास रखते हैं। उपवास को अरबी में “सौम”, इसी लिये इस मास को अरबी में माह-ए-सियाम भी कहते हैं। फ़ारसी में उपवास को रोज़ा कहते हैं। भारत के मुसलिम समुदाय पर फ़ारसी प्रभाव ज़्यादा होने के कारण उपवास को फ़ारसी शब्द ही उपयोग किया जाता है।

उपवास के दिन सूर्योदय से पहले कुछ खालेते हैं जिसे सहरी कहते हैं। दिन भर न कुछ खाते हैं न पीते हैं। शाम को सूर्यास्तमय के बाद रोज़ा खोल कर खाते हैं जिसे इफ़्तारी कहते हैं।

सौम और बहुवचन सियाम अरबी भाषा के शब्द हैं। उपवास को अरबी में “सौम” कहते हैं। रमज़ान के पवित्र माह में रखे जाने वाले उपवास ही “सौम” हैं। उर्दू और फ़ारसी भाषा में सौम को “रोज़ा” कहते हैं।

इस्लाम के पाँच मूलस्थंबों में से एक सौम है।

जैसे के सौम अरबी भाशा का शब्द है। अरबी देशों में इसको सौम के नाम से ही जाना जाता है। लैकिन फ़ारसी भाशा के असर रुसूख रखने वाले देश जैसे, तुर्की, ईरान, पाकिस्तान, भारत, बंग्लादेश, में इसे रोज़ा के नाम से जाना जाता है। मलेशिया, सिंगपूर, ब्रूनै जैसे देशों में इसे पुआसा कहते हैं, इस शब्द का मूल संस्कृत शब्द उपवास है।

रोज़े का तरीक़ा

सहरी : उपवास के दिन सूर्योदय से पहले कुछ खालेते हैं जिसे सहरी कहते हैं।
इफ़्तारी : दिन भर न कुछ खाते हैं न पीते हैं। शाम को सूर्यास्तमय के बाद रोज़ा खोल कर खाते हैं जिसे इफ़्तारी कहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Cresta WhatsApp Chat
Send via WhatsApp
error: Content is protected !!