आज से सतुआन और बगँला नव वर्ष 1425 प्रारम्भ हो रहा है. बंगाल मे इसे पोइला बैशाख, चडक पूजा कहा जाता है. इसी दिन तमिल नववर्ष, केरल में विशु, उडीसा मे मेष संक्राति, मणिपुर मे चेइरोबा, सती अनुसूया जयन्ती के रूप में मनाई जाती है. इसी के साथ खरमास की समाप्ति हो जाऐगी.

सतुआन भोजपुरी संस्कृति के काल बोधक पर्व है. हिन्दू पतरा में सौर मास के हिसाब से सूरज जिस दिन कर्क रेखा से दक्षिण के ओर जाता है उसी दिन यह पर्व मनाया जाता है. बिहार में इस पर्व को खास तरीके से मनाया जाता है. इस दिन लोग गंगा में स्नान करते हैं और दान पुन्य का काम करते हैं. इस दिन पितरों को सन्तुष्ट करने के लिये सत्तू, गुड़, चना, पँखा, मिट्टी का घड़ा, आम, फल आदि का दान पंडितों के बीच किए जाने की परम्परा है. गणेश चतुर्थी होने के कारण चन्द्र को दुध का अर्घ्य रात 9 बजकर 3 मिनट पर दिया जाऐगा. इस दिन एक महासंयोग बन रहा है जिसमें सर्वार्थसिद्धि योग, गुड फ्राइडे और अम्बेडकर जयन्ती एक साथ है. शुक्रवार को सौम्य गोल मे सूर्य होगे, शिव मन्दिरों में आज से ही घड़ों मे पानी भरकर शिवलिंग पर लगा दिया जाता है.

Source : livecities.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Cresta WhatsApp Chat
Send via WhatsApp
error: Content is protected !!