जानें किस दिन कौन सा कार्य करने से मिलेगी शुभता और सफलता

सनातन धर्म में सातों दिन को श्रेष्ठ बताया गया है I इसके अलावे अलग-अलग कार्यों के लिए अलग-अलग दिन निर्धारित किये गए है I दिन के हिसाब से काम करने से सफलता आपकी कदम चूमेगी I दिन- प्रतिदिन प्रगति और उन्नति मिलेगी I

रविवार – इस दिन सूर्य ग्रह का प्रभाव अधिक होता है। कोई नई औषधि आरंभ करनी हो, तो इस दिन से सेवन करना शुरू करें। स्वास्थ्य विचार, पशु खरीदी, यज्ञ-मंत्रोपदेश, दीक्षा, अस्त्र-शस्त्र, वस्त्र, धातु की खरीद, वाद-विवाद, न्यायिक सलाह लेना इस दिन शुभ होता है।

सोमवार- इस दिन कृषि संबंधी कोई भी नया कार्य प्रारंभ करें, फलित होगा। कृषि संबंधी कार्य जैसे कि खेती यंत्र खरीदी, बीज बोना, बगीचा, फल के वृक्ष लगाना, आदि इस दिन करें। इसके अलावा वस्त्र तथा रत्न धारण करना, औसत क्रय-विक्रय, भ्रमण-यात्रा, कला कार्य, स्त्री प्रसंग, नवीन कार्य, अलंकार धारण करना, पशुपालन, वस्त्र आभूषण का क्रय-विक्रय हेतु इस दिन शुभ मन गया है।

मंगलवार- मंगल ग्रह से प्रभावित होता है यह दिन। इस दिन जासूसी कार्य, भेद लेना, ऋण देना, गवाही, विष कार्य, अग्नि विषयक कार्य, सेना, युद्ध, नीति-रीति, वाद-विवाद निर्णय, साहस कार्य आदि शुभ है किन्तु ऋण लेना शुभ नहीं है। इस दिन लिया हुआ ऋण चुकाना काफी मुश्किल हो जाता है।

बुधवार- इस दिन किसी को ऋण देने से आपके पास जल्दी वापस आ जाता है। इसके अलावा शिक्षा-दीक्षा विषयक कार्य, विद्यारंभ, अध्ययन, सेवावृत्ति, बहीखाता, हिसाब विचार, शिल्पकार्य, निर्माण कार्य, नोटिस देना, गृहप्रवेश, राजनीति शुभ होता है।

गुरुवार- यह दिन सबसे शुभ माना जाता है। इस दिन ज्ञान-विज्ञान की शिक्षा, धर्म संबंधी कार्य, अनुष्ठान, विज्ञान, कानूनी कार्य, नई शिक्षा आरंभ करना, गृह शांति, मांगलिक कार्य, आदि शुभ कार्य करने से सफलता मिलती है।

शुक्रवार- इस दिन का संबंध शुक्र ग्रह से होता है । इस दिन सांसारिक कार्य, गुप्त विचार गोष्ठी, प्रेम व्यवहार, मित्रता, वस्त्र, मणिरत्न धारण तथा निर्माण, अर्क, इत्र, नाटक, छायाचित्र फिल्म, संगीत, भण्डार भरना, खेती करना, हल प्रवाह, धान्य रोपण, आयु ज्ञान शिक्षा लेना शुभ होता है।

शनिवार- भगवान शनि का प्रभाव इस दिन सबसे अधिक होता है। यदि कोई जातक शनि की साढ़ेसाती या ढैय्या से पीड़ित है, तो उसे इस दिन शनि की उपासना करनी चाहिए। इस दिन गृहप्रवेश व निर्माण, नौकर-चाकर रखना, धातु लौह-मशीनरी, कल पुर्जों के कार्य, गवाही, व्यापार विचार, वाद-विवाद, वाहन खरीदना, सेवा विषयक कार्य करना शुभ होता है।

लेखक : ज्योतिषी पं० राकेश झा शास्त्री

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Cresta WhatsApp Chat
Send via WhatsApp
error: Content is protected !!