केवल नरसिंह की प्राचीन मूर्ति : अंगभूमि का नायाब़ धरोहर

भगवान केवल नरसिंह की यह कलात्मक मूर्ति अंगभूमि के नाम से प्रख्यात भागलपुर जिला के शाहकुंड प्रखंड में अवस्थित है। सामान्यतः भगवान विष्णु के अवतार नरसिंह की प्रतिमा हिरण्यकश्यप के साथ होती है, किंतु यहाँ सिर्फ नरसिंह के विराजमान होने के कारण ये ‘केवल’ नरसिंह कहलाते हैं जो अपनी कलात्मक शिल्प के कारण पूरे देश में विशिष्ट माने जाते हैं।

शिव और शक्ति की महिमा से मंडित होने के साथ अंगभूमि भगवान विष्णु की गाथाओं से भी संपृक्त है। यहां के बौंसी स्थित मंदार के साथ समुद्र मंथन की पौराणिक कथा जुड़ी है जहाँ विष्णु मंदार मधुसूदन के रूप में विराजते हैं। मंदार के शिखर पर की गुफा में हिरण्यकश्यप का वध करते नरसिंह उत्कीर्ण हैं। वहीं शाहकुंड से थोड़ी दूरी पर सुलतानगंज की अजगैबी पहाड़ी पर भी भगवान नरसिंह की आकर्षक मूर्ति एक बड़े पाषाण खंड पर उत्कीर्ण है।

पुरातत्वविक दृष्टि से अत्यंत महत्वपूर्ण केवल नरसिंह की यह नायाब मूर्ति शाहकुंड के खेरी पहाड़ी की तलहटी में खुले में स्थान में एक छोटे-से मंदिर में बिल्कुल असुरक्षित अवस्था में रखी है। तेजी से क्षरण होते इन पुरा सम्पदाओं के संरक्षण की नितांत आवश्यकता है।

रिपोर्ट : शिव शंकर सिंह पारिजात,
अवकाश प्राप्त उप-जनसम्पर्क निदेशक, भागलपुर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Cresta WhatsApp Chat
Send via WhatsApp
error: Content is protected !!