मीजल्स और रुबैला टीकाकरण अभियान में 100 प्रतिशत कवरेज वाला पहला जिला बना शेखपुरा

17 दिनों में 2.15 लाख बच्चों का कर शेखपुरा ने पेश की मिसाल

पटना 22 फ़रवरी, 2019 – राज्य मुख्यालय से 120 किलोमीटर दूरी पर स्थित शेखपुरा बिहार का पहला जिला है जिसने मीजल्स और रुबैला टीकाकरण अभियान में 100 प्रतिशत टीकाकरण के लक्ष्य को प्राप्त किया है. शेखपुरा जिला प्रशासन की कवरेज रिपोर्ट के अनुसार 15 जनवरी 2019 को शुरू हुए एम.आर अभियान में शेखपुरा जिले ने 17 दिनों में 2 लाख 15 हज़ार लक्षित बच्चों का टीकाकरण कर अन्य जिला के लिए एक मिसाल पेश किया है.पहले 2 हफ्तों में इस अभियान के तहत 514 सरकारी, 212 जी और 13 मदरसों सहित कुल 749 विद्यालओं में 1.18 लाख बच्चों को एम. आर का टीका लगाया गया. अगले फेज़ में 582 आउटरीच स्थलों और 18 दूरस्थ स्थलों पर कुल 96, 925 बच्चों को एम .आर का टीका लगाया गया है.

शेखपुरा के अतिरिक्त बिहार में नालंदा और लखीसराय ऐसे जिले हैं जहाँ एम. आर टीकाकरण 90 प्रतिशत से ज्यादा है. 80 प्रतिशत से ज्यादा टीकाकरण वाले जिलों में पटना, औरंगाबाद, बांका, भागलपुर और शिवहर प्रमुख है. वही पुरे बिहार का कवरेज 72 प्रतिशत है.

इस अभियान की सफलता के बारे में बताते हुए शेखपुरा के जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ के पुरुषोतम ने कहा कि जिला पदाधिकारी के नेतृत्व में इस पुरे अभियान को हमने 17 दिनों में पूरा किया. राज्य स्वास्थ्य समिति के नेतृत्व में लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए जिलापदाधिकारी, सिविल सर्जन, डेवलपमेंट पार्टनर्स के द्वारा नियमित रूप से प्रगति का रिव्यु और कारवाई की गई. इसको अभियान नहीं एक आन्दोलन के रूप में किया गया है. इस पूरे अभियान में विश्व स्वस्थ्य संगठन और यूनिसेफ का तकनीकी सहयोग मिला. जीविका की दीदीयों और स्वयं सहायजा समूह, पंचायती राज प्रतिनिधियों विकास मित्र, टोला सेवक, स्कूल शिक्षकों, धर्म और अध्यात्मिक गुरुओं, मीडिया और प्रचार प्रसार की भी भागीदारी, महत्वपूर्ण रही है।

विद्यालय में लिटिल फ्रेंड्स कैम्पेन का पड़ा सकारात्मक प्रभाव
अभियान में विद्यालयों का कवरेज 100 प्रतिशत रहा है. इसका कारण स्कूलों के साथ अच्छी लामबंदी है. स्कूलों में जब बच्चों के साथ बात करते थे तो मोटिवेशन स्पीच के माध्यम से उसकी शुरुआत की जाती थी जिससे बच्चे संवाद की प्रक्रिया से जुड़े रह सके. इसके दौरान डॉ के पुरुषोतम ने सभी बच्चों को जोड़ने के लिए उनको लिटिल फ्रेंड के नाम से संबोधित करते थे. जिसके फलस्वरूप बच्चे ज्यादा जुड़ पाते थे. ऐसे में बच्चे ही अपने अभिभावकों को इस पहल के बाते में बताते थे और टीकाकरण के फायदों के बारे में अपने घर – परिवार में बात करते थे.

विभिन्न धर्म और अध्यात्मिक गुरूओं का भी रहा महत्वपूर्ण योगदान
धर्मगुरुओं के सहयोग के बारे में बताते हुए शेखपुरा के सिविल सर्जन डॉ मृगेंद्र प्रसाद ने कहा कि टीकाकरण को लेकर लोगों की आशंकाओं को दूर करने और एम आर टीकाकरण अभियान में मांग बढ़ाने में विभिन्न धर्म और अध्यात्मिक गुरूओं की भी भूमिका काफी महत्वपूर्ण रही है. इमाम मो तौशिफ इकबाल के नेतृत्व में जिलों के प्रसिद्ध और बड़ी मस्जिदों के इमामों के साथ मिलकर समुदाय को जागरूक करने के लिए सामुदायिक बैठकें की गई और जुम्मे के नमाज़ के बाद सम्बंधित मस्जिदों के इमाम द्वारा 10-15 मिनट का एक सत्र संबोधित किया जाता था. जिसमे वो अपने अनुसार एम-आर के महत्वपूर्ण संदेशों को समुदाय को बताते थे.

यूनिसेफ की संचार विशेषज्ञ निपुण गुप्ता ने कहा कि इस पहल को सफल बनाने में ए.एन.एम, मोबिलाईजर, सभी सेशन तक टीकों को सही सलामत और सुरक्षित पहुचने वाले वैक्सीन कूरियरों सहित टीकों को सुरक्षित रखने में कोल्ड चेन से जुड़े लोगों की भी भूमिका काफी महत्वपूर्ण रही है . मीडिया के माध्यम से जागरूकता और अन्य संचार सामग्रियों का भी काफी अनुकूल असर इस अभियान पर पड़ा.

यूनिसेफ बिहार के स्वास्थ्य विशेषज्ञ डॉ हुब्बे अली ने कहा कि जिला प्रशासन की रिपोर्टिंग के अनुसार शेखपुरा ने 100 प्रतिशत टीकाकरण किया है. 100 प्रतिशत टीकाकरण के बाद डेवलपमेंट पार्टनर्स के द्वारा कंकरेंट मॉनिटरिंग / अनुश्रवण किया जाता है कि सभी बच्चों को टीके लगे हैं या नहीं. उसके बाद ही 100 प्रतिशत टीकाकरण तय हो पता है. छूटे हुए बच्चों को मॉप – अप राउंड में टीका लगाया जाता है.

 

रिपोर्ट : अविनाश उज्जवल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Cresta WhatsApp Chat
Send via WhatsApp
error: Content is protected !!