पहले थीं रोजगार की तलाश.. अब दूसरों को सिखा रहीं स्वरोजगार के गुर

बदलाव की बयार : नाबार्ड व परफेक्ट विज़न के संयुक्त पहल का असर 

सिवान | ‘वक्त से लड़कर जो अपनी तक़दीर बदल दे , इंसान वहीँ जो अपनी हाथों की लकीर बदल दे | कल क्या होगा कभी ये न सोचो ; क्या पता कल खुद अपनी तस्वीर बदल दे |’ उक्त पंक्तियों को चरितार्थ करती आन्दर प्रखंड के तियान्य गाँव की अंशु कुमारी व राजू कुमारी ने अपने हुनर व आत्मविश्वास के बदौलत न केवल बेरोजगारी के अभिशाप से स्वयं को मुक्त किया है अपितु काम की तलाश में भटक रही अन्य युवतियों के लिए भी प्रेरणा स्रोत बनकर भी उभरी है | बतातें चलें की कुछ माह पूर्व तक उक्त युवतियां काम की तलाश में जगह-जगह हाथ- पैर मार रही थी | मगर समुचित मार्गदर्शन व हुनर के अभाव में उन्हें लगातार असफलता ही हाथ लग रही थी | परिवार की माली हालत भी ऐसी नहीं थी कि उन्हें अपेक्षित आर्थिक मदद मिल सके | फलतः धीरे-धीरे उनमें निराशा की भावना घर करती जा रही थी | अंशु ने बताया कि उसके निराशा व चिंता को देखकर अप्रैल 2018 में उसके पिता ने बताया कि सिवान में नाबार्ड व परफेक्ट विज़न द्वारा सिलाई – कशीदाकारी सम्बन्धी नि:शुल्क प्रशिक्षण कार्यक्रम आरम्भ होने वाला है | उसमें दाखिला के लिए ट्राई क्यों नहीं करती हो ? फिर अंशु ने अपनी पडोसी राजू कुमारी के साथ मिलकर उक्त प्रशिक्षण कार्यक्रम में दाखिला लिया | राजू कुमारी ने बताया कि पुरी तन्मयता से प्रशिक्षण लेने के उपरांत अब कारोबार आरम्भ करने हेतु स्थान व पूंजी की आवश्यकता आ पड़ी | नाबार्ड व परफेक्ट विज़न द्वारा कारोबार आरम्भ करने के लिए अपेक्षित वितीय मदद उपलब्ध कराने की पेशकश की गयी | मगर हमारे परिवार व गाँव में युवतियों को ऋण लेकर कारोबार करने की परम्परा नहीं रही है | लिहाजा; परिजनों को ऋण लेकर रोजगार शुरू करने का प्रस्ताव अटपटा लगा व उन्होंने सख्ती से मनाही कर दी | फिर हम दोनों ने प्रशिक्षण प्रदान करने वाली संस्था की सलाह पर घर पर ही रानी सिलाई सेंटर की स्थापना की | पहले से ही हमारे पास सिलाई मशीन उपलब्ध होने के कारण ज्यादा दिक्कत नहीं हुई | यहाँ हमने सिलाई-कटाई का कार्य आरम्भ किया | उक्त युवतियों ने बताया कि प्रतिष्ठित टेलर मास्टरों से कम सिलाई शुल्क लेने व कम समय में उम्दा कार्य करने से ग्राहकों का आना शुरू हो गया | उसके बाद हमने घर बैठे रोजगार की चाहत रखने वाली युवतियों एवं महिलाओं से संपर्क कर उन्हें किफायती शुल्क पर प्रशिक्षण देने का काम आरम्भ किया | अंशु व राजू ने बताया कि अब घर बैठे अच्छी- खासी आमदनी हो जा रही है | उन्होंने कहा की सबसे बड़ी बात यह है कि हमारा आत्मसम्मान बढ़ा है व दूसरों का हमारे प्रति नजरिया भी बिलकुल बदल गया है |

बेटियों को कमजोर व कमसिन समझने वालों को करारा तमाचा : डी डी एम

नाबार्ड के डीडीएम मो.आफ़ताब उद्दीन ने कहा कि अंशु व राजू की सफलता काबिले तारिफ व प्रेरणादायी तो है ही साथ ही साथ बेटियों को कमजोर ,कमसिन एवं बोझ समझने वालों के लिए करारा तमाचा भी है | उन्होंने कहा कि नाबार्ड जिले में विभिन्न रोजगारपरक योजनाओं के माध्यम से बेरोजगारी दूर करने की दिशा में गंभीरता पूर्वक कार्य कर रहा है |

क्या कहतें है परफेक्ट विज़न के सचिव

प्रशिक्षण प्रदान करने वाली संस्था परफेक्ट विज़न के सचिव मनोज ने कहा कि संगठन नाबार्ड सहित सामान उदेश्य वाली ख्याति लब्ध सरकारी व गैर सरकारी संस्थानों एवं विभागों के साथ मिलकर विभिन्न रोजगारोन्मुखी योजनाओं के माध्यम से जिले में प्रचुर मात्रा में उपलब्ध हुनर को तराश कर युवाओं को सम्मानजनक एवं सतत आय सृजन में मदद कर रहा है |

अंशु कुमारी 

राजू कुमारी

 

रिपोर्ट : मनोज मिश्र, सचिव, परफेक्ट विज़न, सिवान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Cresta WhatsApp Chat
Send via WhatsApp
error: Content is protected !!